Everybody in Indian Hindi Blog News Aggregator network

1
0
Rekha Srivastava

दुर्भाग्य मेरा !

                                     कहते है न कि कुछ चीजें इंसान अपनी मेहनत और प्रयास से हासिल कर लेता है लेकिन कुछ वह चाह कर भी नहीं पा सकता है। मुझे २३ साल पहले तो पापा के निधन की खबर तक नहीं मिली..  read more
यथार्थ · Comment · 22 min ago via RSS
1
0
Rishabha Deo Sharma ऋषभ देव शर्मा

दृश्य-श्रव्य माध्यम लेखन : 3 : इलेक्ट्रॉनिक मीडिया हेतु समाचार

राजीव गांधी विश्वविद्यालय, रोनो हिल्स, ईटानगर, अरुणाचल प्रदेश.स्नातकोत्तर प्रयोजनमूलक हिंदी डिप्लोमा के छात्रों को प्रश्नपत्र ''दृश्य-श्रव्य माध्यम लेखन'' पर संबोधित करने के लिए  कुछ ..  read more
18
0
tmpde40fb2d3382401cba70ccf8ee6fba37.jpg डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

"दोहे-महँगाई उपहार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जब से छोटा हो गया, रुपये का आकार।तब से बौना हो गया, रिश्तों का संसार।।--बिगड़ रही है व्यवस्था, बेबस है सरकार।कीमत रुपये की घटी, मँहगाई की मार।।--आम जरूरत का हुआ, मँहगा सब सामान।ऐसी हालत देख..  read more
14
0
tmp9ffb3cae92525ec1169270b7078181a3.jpg firdaus

दहकते लम्हों का मौसम...

मेरे महबूब !ये दहकते लम्हों का मौसम है...जिसकी सुबहदहकती हैंदहकते पलाश केसुर्ख़ फूलों की तरह...जिसकी दोपहरेंदहकती हैंतपते सहरा कीगरम रेत की तरह...जिसकी फ़िज़ाओं मेंआंधियां चलती हैंऔरहर सिम्तधूल के ग़ुबार..  read more
Firdaus Diary · Comment · 40 min ago via RSS
16
0
tmpea6c7392447de6b5a4baadca539156fe.JPG MADHAVI RANJANA

अपना वैष्णो ढाबा की दाल रोटी...

( जन्नत में जल प्रलय - 5 )दोपहर में अपने होटल के कमरे में सामान जमा लेने के बाद हमें भूख लगी थी। हमलोग खोना खान रोड पर पेट पूजा के लिए कोई होटल ढूंढने निकले। थोड़ी दूर चलने पर मुख्य सड़क पर अपना वैष्..  read more
15
0
tmp388e413219da6c4b4badec1478d86247.jpg dilip soni

कश्मीरी सेब - प्रेमचंद

कल शाम को चौक में दो-चार जरूरी चीजें खरीदने गया था। पंजाबी मेवाफरोशों की दूकानें रास्ते ही में पड़ती हैं. एक दूकान पर बहुत अच्छे रंगदार, गुलाबी सेब सजे हुए नजर आये. जी ललचा उठा. आजकल शिक्षित समाज में..  read more
17
0
tmpc7aa7f837a223d3989aab78f1d5360f1. rewa tibrewal

क्या होती है बरसात ?

क्या होती है बरसात ?कैसी होती है ?ये सवाल आज भीमेरे लिए सवाल है……सुना है इसकी बूंदेंजब तन को छूती है तोएक सिहरन सी महसूस होती हैजैसे किसी ने हौले से प्यारभरा स्पर्श किया हो.......बाँहें फ़ैलाये जबइसमे..  read more
22
0
tmp9fc3da4b2725d10f2d212cfbc39137ea.jpg braj kishore singh

बिहार की उच्च शिक्षा के श्राद्ध-कर्म में आप सादर आमंत्रित हैं

22 सितंबर,2014,हाजीपुर,ब्रजकिशोर सिंह। मित्रों, मैं आपसे पहले भी अर्ज कर चुका हूं कि हमारे बिहार का कबाड़ा करने में जवाब नहीं। जब नेपाल की सरकार ने बिहार में बाढ़ लाने से मना कर दिया तो बिहार सरकार..  read more
18
0
ललित शर्मा

मुक्तिबोध हिन्दी के सर्वाधिक चर्चित रचनाकार: डाॅ. रमन सिंह

मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने आज जिला मुख्यालय राजनांदगांव में हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार स्वर्गीय गजानन माधव मुक्तिबोध की 50वीं पुण्य तिथि के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में कहा- मुक्तिबोध समकालीन हि..  read more
News expres · Comment · 4 hours ago via RSS
17
0
Manoj Patel

बिलावल भुट्टो के नाम एक खुला पत्र

(बिलावल भुट्टो के कश्मीर वाले बहुचर्चित बयान पर अमरीकन देसी डॉट कॉम नामक वेबसाइट पर उनके नाम एक खुला पत्र प्रकाशित हुआ है. मौजूं लगा तो उसका अनुवाद कर आपके सामने पेश कर रहा हूँ.) बिलावल भुट्टो के नाम..  read more
23
0
tmpd33d6bbb0edc61b952fc7dea3225ced0.jpg समीर लाल

तितली

  तितली उस रोज ऊगी थी बगीचे मे मेरे गुलाब को चूमते.. आ बैठती थी काँधे पर मेरे अपनापन पहचान बगीचे की खुशबू से.. अब बड़ी हुई और उड़ चली आज शाम रंगबिरंगी ईठलाती.. इन्तजार मेरा कहता है कि कह..  read more
22
0
shyam kori 'uday'

गिल्ली-डंडा ...

इसको देखा, उसको देखा, जिसको देखा… लड़ते देखा छोटी-छोटी बातों पे, हमनें, लोगों को, गिल्ली-डंडा बनते देखा ? झूमा-झटकी, पटका-पटकी, झपटा-झपटी करते देखा लड़ते देखा, भिड़ते देखा, गिरते देखा, उठते देखा, छोटी-छ..  read more
19
0
tmpaa01b752956aadc5e4c890d8d7fdac7a.jpg arundev

परख : पंचकन्या (मनीषा कुलश्रेष्ठ ) : विवेक मिश्र

सतीत्व और मातृत्व से मुक्त-स्त्री की सृजनशीलता : पंचकन्याविवेक मिश्र'शिगाफ़' और 'शालभंजिका' जैसे उपन्यासों के बाद मनीषा कुलश्रेष्ठ का नया उपन्यास'पंचकन्या' कई पुराणों और मिथकों..  read more
Pages: 1 2 3 4 5

New Members

janpratinidhi Sanu Shukla Latanya Beak కిరణ్ కుమార్ ramesh engineer Kellye Warner जूठी थाली M K Vyas Bhupendra Rashmi Sharma

Last Online

Recently active tags

Latest Blogs

Most Followed Members

Most Posting Members

Blogprahari is India's leading blog aggregator service since 2009. We present to you a blend of couple of services equiped togther to help blog writers. Login to use micro-blogging service like twitter, add you blog/website RSS feed and make friends or socialize with thousands of bloggers round the globe. We feature a Blog Directory, Blog Ranking, Bloggers' Directory, Micro Blog, Articles Section, Social Network and a money making programme for Bloggers, making blogprahari, the first of its kind platform.

Indian Hindi Blog News Aggregator · About Blogprahari · Janpratinidhi · Mobile Version · Donate · Advertise · Privacy Policy · Disclaimers · DMCA · Contacts
Powered by Blog tronx